कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



Lean management (लीन मैनेजमेंट)

Lean management क्या होता है

Lean management क्या होता है

Lean management — यह प्रक्रियाओं को प्रबंधित करने और काम को संगठित करने का एक तरीका है जिसका उद्देश्य कंपनी की उत्पादकता और दक्षता में वृद्धि करना होता है, यानि कि, अपने उत्पादों की गुणवत्ता और उनकी लाभप्रदता में वृद्धि करना। यह उत्पादन और व्यावसायिक प्रक्रियाओं को अनुकूलित करके हासिल किया जाता है, साफ़ तौर पर कहें तो, माल की कीमत को प्रभावित किये बिना किसी टास्क को पूरा करने के समय को कम करना (उदाहरण के लिए, माल का ट्रांसपोर्टेशन)। साथ ही, जिन स्थितियों में कर्मचारी काम करते हैं, उनमें भी आवश्यक रूप से सुधार किए जाते है। इस विधि को पब्लिक सेक्टर में अक्सर उपयोग किया जाता है।

Lean management (लीन मैनेजमेंट) की परिभाषा में "लीन" शब्द का उपयोग "बिना किसी अतिरिक्त भार" के अर्थ में होता है, जिसका मतलब है कि प्रक्रिया के बेकार और अनावश्यक तत्वों की अस्वीकृति, जो गलतियों को जन्म देती है या काम को जटिल बनाती है और इसकी प्रभावशीलता को कम करती है। यह दृष्टिकोण अक्सर पब्लिक सेक्टर में उपयोग किया जाता है।

लीन मैनेजमेंट की अवधारणा

लीन मैनेजमेंट — एक अपेक्षाकृत नया और अभी भी विकासशील दृष्टिकोण है। यह 70 के दशक में Toyota इंजीनियर ताइची ओहनो द्वारा विकसित लीन मैन्युफैक्चरिंग की अवधारणा पर आधारित है, जिसका उद्देश्य देश और कंपनी में ऊर्जा संकट को हल करने के लिए माल के उत्पादन में चीज़ें खराब होने, बर्बादी और नुकसान की मात्रा को कम करना था। लीन मैनेजमेंट में नुकसान — उपभोक्ता के लिए कीमत बढ़ाए बिना, संसाधनों पर खर्च को कहा जाता है।

इसके बाद, यह अवधारणा न केवल पूरी दुनिया में फैल गई, बल्कि अमेरिकी कंपनियों द्वारा भी इसे अपनाया गया और इसी क्रम में इसे नाम दिया गया: Lean production (लीन प्रोडक्शन), या Lean manufacturing (लीन मैन्युफैक्चरिंग)। लीन मैनेजमेंट की अवधारणा ने लीन प्रोडक्शन के मुख्य कार्य को अपना लिया — जो कि अनुकूलन प्रक्रिया में प्रत्येक कर्मचारी की भागीदारी और उपभोक्ता पर पूरा ध्यान केंद्रित करना है।

इस प्रकार, अपनी पूर्ववर्ती अवधारणाओं से तत्वों को उधार लेते हुए और आधुनिक बाजार की जरूरतों को अपनाते हुए, लीन मैनेजमेंट की अवधारणा को एक अधिक उन्नत और लचीली व्यावसायिक रणनीति माना जाने लगा।

लीन मैनेजमेंट के सिद्धांत

लीन मैनेजमेंट के सिद्धांत

किसी कंपनी में लीन मैनेजमेंट को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए, लीन मैनेजमेंट के सिद्धांतों को ध्यान में रखना आवश्यक है:

  • पता लगाएं कि कौन सी चीज़ उपभोक्ता के लिए उत्पाद का मूल्य तय करती है। बहुत से कृत्य या निर्णय आखिरकार उपभोक्ता के लिए मायने नहीं रखते हैं, इसलिए आप उनसे छुटकारा पा सकते हैं।
  • केवल सबसे महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं की पहचान करें और सभी सहेजे गए संसाधनों को उनके ऑप्टिमाइजेशन के लिए पुनर्निर्देशित करें। अनावश्यक नुकसान से बचने के लिए एक वास्तविक मूल्य निर्माण योजना तैयार करें। लीन मैनेजमेंट में नुकसान — उन संसाधनों की बर्बादी को कहते हैं जिनसे उपभोक्ता के लिए माल की लागत में वृद्धि नहीं होती है।
  • एक सतत उत्पादन प्रक्रिया सुनिश्चित करें ताकि कंपनी का काम एक "प्रवाह" बन जाए। ऐसा करने के लिए, आपको जटिल टास्कों को छोटे-छोटे टास्कों में तोड़ना चाहिए और विभागों के बीच संचार स्थापित करना चाहिए ताकि एक विभाग से दूसरे विभाग में पहुँचते समय टास्क कहीं "अटक" न जाएं।
  • मांग के आधार पर उत्पादन को समायोजित करें। केवल उन्हीं उत्पादों का और उतनी मात्रा में उनका उत्पादन करना ज़रूरी है जितनी उपभोक्ताओं की आवश्यकता है।
  • उत्कृष्टता के लिए प्रयास करें, और ऐसा करने के लिए, अनावश्यक लागतों को कम करके और महत्वपूर्ण खर्चों में सुधार करके, नियमित रूप से सभी व्यावसायिक प्रक्रियाओं का विश्लेषण करें और लीन सिद्धांतों के चक्र को दोहराएं।

लीन मैनेजमेंट के उपकरण और लीन मैनेजमेंट के तरीके

लीन मैनेजमेंट के बहुत सारे उपकरण हैं, और आपको अपने व्यवसाय के प्रकार और लक्ष्यों के आधार पर उन्हें चुनना चाहिए (भले ही यह एक पब्लिक सेक्टर हो)। लीन मैनेजमेंट के सबसे ज़्यादा उपयोग किये जाने वाले उपकरण और तरीके ये हैं:

  • काइज़ेन (Kaizen)  — यह किसी संगठन के सभी पहलुओं में निरंतर सुधार करने की जापानी अवधारणा है, जिसमें उसके कर्मचारियों का प्रदर्शन और यहां तक ​​कि उनके व्यक्तिगत गुण भी शामिल हैं।
  • Six Sigma — यह मोटोरोला द्वारा निर्मित एक गुणवत्ता नियंत्रण पद्धति है जिसे विनिर्माण स्तर पर, खराबी और दोषों का समय पर पता लगाने के लिए डिज़ाइन किया गया था।
  • Just in Time — यह एक अवधारणा है, जिसमें सभी प्रवाह, सामग्री, घटकों और उपयोग की जाने वाली प्रक्रियाओं को पहले से डिज़ाइन किए गए कठोर मैन्युफैक्चरिंग शिड्यूल द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इसकी उपस्थिति आपको रिज़र्व स्टॉक और अतिरिक्त संसाधनों के बिना सब कुछ प्रबंधित करने की अनुमति देती है।
  • 5S — यह मैन्युफैक्चरिंग या कार्यालय में काम करने की आदर्श स्थिति बनाने की एक जापानी प्रणाली है, ताकि वहां व्यवस्था, स्वच्छता और सटीकता बनाए रखी जा सके और जो आपको Lean management के समग्र अर्थ को विकृत किए बिना अधिक कुशलता से काम करने और समय बचाने की अनुमति देती है।
  • कनबान (Kanban) — यह "जस्ट-इन-टाइम" की तरह प्रबंधन का एक सिद्धांत है जो प्रक्रियाओं और श्रमिकों में समान रूप से कार्यभार वितरित करता है। शुरुआत में इसे आईटी कंपनियों में विकास टीम की दक्षता में सुधार के लिए उपयोग किया जाता था।
  • Andon — यह एक विज़ुअल वर्कफ़्लो मैनेजमेंट है जो सभी कर्मचारियों को दैनिक आधार पर कंपनी में क्या हो रहा है और उत्पादन के काम की निगरानी करने की अनुमति देता है। साथ ही, जब कभी ऑडियो और विज़ुअल सिग्नल में कोई खराबी या समस्या होती है, तब भी Andon टीम को सूचित करता है।

लीन मैनेजमेंट के ये उपकरण, Lean management की तरह ही, पूरी तरह से अलग-अलग क्षेत्रों में उपयोग किए जाते हैं, जैसे कि स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, या यहां तक ​​कि भवन के निर्माण में भी। Lean का उपयोग करने के लिए सामाजिक क्षेत्र भी उपयुक्त होता है। किसी भी प्रकार के लीन मैनेजमेंट का उपयोग करने का अभ्यास, किसी पोर्टफोलियो के लिए भी बहुत मूल्यवान होता है।

Lean Project Management

Lean Project Management

सरल शब्दों में कहें तो, लीन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट — विशेष रूप से प्रोजेक्ट्स के लॉन्च और विकास के लिए लीन मैनेजमेंट के सिद्धांतों का उपयोग करना है। इन्हें अक्सर पब्लिक सेक्टर यानि सार्वजनिक क्षेत्र में उपयोग किया जाता है। इस दृष्टिकोण का लक्ष्य लागत और नुकसान को कम करते हुए मुनाफे को बढ़ाना है। Lean project management की सहायता से एक कंपनी निम्न कार्य कर सकती है:

  • प्रोजेक्ट को छांटने के मापदंड तैयार करना।
  • ऑर्डर पूरा करने के समय को कम करना।
  • शिपिंग या स्टोरेज की लागत को कम करना।
  • टीम की समग्र उत्पादकता और दक्षता में सुधार करना।
  • उत्पाद की गुणवत्ता में सुधार करना।
  • प्रक्रियाओं में सुधार करना।
  • परिणामस्वरूप, ग्राहकों की संतुष्टि में सुधार करना।

Lean project management को लागू करने का सबसे आम तरीका "कनबान विधि" (ऊपर बताई गई है) या "लास्ट प्लानर सिस्टम" (Last Planner System) का उपयोग करना है, जो टीम में विविध प्रोफेशन के लोगों की भागीदारी, काम के विज़ुअल प्रदर्शन और निरंतर प्रवाह बनाने के साथ, प्रोजेक्ट के संयुक्त विकास पर जोर देता है। इसके अलावा, लीन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट का उपयोग अक्सर Lean product management, यानी लीन उत्पाद प्रबंधन के संयोजन में किया जाता है, जो आपको न्यूनतम लागत पर वास्तव में लोकप्रिय उत्पाद बनाने की अनुमति देता है।

Lean Change Management

Lean Change Management (LCM) — यह नियोजित और मजबूरी में होने वाले, दोनों तरह से परिवर्तनों का अनुकूलक प्रबंधन है। स्टार्टअप लॉन्च करने के चरण में इसका सबसे अधिक उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह आपको, परिवर्तन में शामिल हुए प्रतिभागियों के फीडबैक और सांख्यिकीय डेटा का उपयोग करके, परिवर्तनों को सुरक्षित रूप से लागू करने की अनुमति देता है। उसी तरह सार्वजनिक प्राधिकरणों में भी इसका उपयोग किया जाता है।

लीन चेंज मैनेजमेंट मॉडल — एक नॉन-लीनियर मॉडल है जो लीन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट की तरह ही सहयोग पर भी आधारित होता है। मैक्रो लेंस के दृष्टिकोण से देखें तो, इस मॉडल में 4 चरण होते हैं:

  • रणनीति का गठन। किसी भी परिवर्तन को लागू करने से पहले यह समझना आवश्यक होता है कि इस परिवर्तन की आवश्यकता क्यों है और इसके परिणाम को कैसे मापा जाएगा। आपको इस प्रश्न का भी उत्तर देना होता है कि परिवर्तनों में भाग लेने वालों को बिना किसी नुकसान के जल्दी से इन परिवर्तनों से अनुकूलित होने में कैसे मदद करें।
  • प्राथमिकता। जो विकल्प सामने आते हैं उनका मूल्यांकन किया जाता है और फिर प्रयोगों के फॉर्मेट में उन्हें चलाया जाता है।
  • परिवर्तन की लचीली शुरुआत। विकल्पों को चरणों में तोड़ना आवश्यक होता है, साथ ही उनके कार्यान्वयन की प्रगति की एक स्पष्ट समझ बनाना ज़रूरी होता है, जिसके बाद विकल्पों का कार्यान्वयन शुरू किया जा सकता है।
  • फीडबैक एकत्रित करना। नए परिवर्तन अनिवार्य रूप से एक नई संस्कृति का निर्माण करते हैं। कंपनी के अंदर प्रक्रियाओं की पारदर्शिता और उनके साथ लोगों की समग्र संतुष्टि की निगरानी करना आवश्यक होता है।

Lean Construction Management

निर्माण में लीन मैनेजमेंट या लीन कंस्ट्रक्शन — जगहों के निर्माण के दौरान होने वाले नुकसान को कम करने के लिए, लीन मैन्युफैक्चरिंग के सिद्धांतों का उपयोग करके, गुणवत्ता प्रबंधन की यह एक नई दिशा है। यह दृष्टिकोण प्रक्रिया के व्यवस्थितकरण, टास्कों की संरचना और उन्हें सौंपे गए काम के लिए कार्यान्वयनकर्ताओं की जिम्मेदारी बढ़ाने पर आधारित है। लीन मैनेजमेंट में, निरंतर सुधार को "काइज़ेन" के रूप में भी जाना जाता है ("काइज़ेन" के उपयोग के बिना, लीन कंस्ट्रक्शन पद्धति का उपयोग शायद ही कभी किया जाता है)।

इस प्रकार, निर्माण में Lean management का महत्व विशेष रूप से अधिक है, क्योंकि इस दृष्टिकोण के बदौलत, निर्माण अधिक कुशल हो जाता है, कम समय और कम संसाधनों की आवश्यकता होती है, और परिणामस्वरूप आपको ऐसा निर्माण मिलता है जो ग्राहकों की सभी अपेक्षाओं को पूरा करता है और अधिकतम गुणवत्ता का होता है।

Customer Development (CustDev)

MVP (Minimum Viable Product)