कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



कैटेगरी मैनेजमेंट

कैटेगरी मैनेजमेंट क्या होता है

कैटेगरी मैनेजमेंट क्या होता है

कैटेगरी मैनेजमेंटरिटेल में एसोर्टमेंट के मैनेजमेंट करने को कहते है, जिसके कॉन्सेप्ट के अंतर्गत एसोर्टमेंट को सामान्य विशेषताओं या कार्यों के आधार पर समूहों (श्रेणियों) में विभाजित किया जाता है। उदाहरण के लिए, स्टोर में शेल्फ को हमेशा कैटेगरी मैनेजमेंट के सिद्धांत के अनुसार व्यवस्थित किया जाता है: एक शेल्फ पर केवल डेयरी प्रोडक्ट्स प्रस्तुत किए जाते हैं, दूसरे पर - मांस, आदि। किसी विशेष कैटेगरी में समानो की बिक्री में वृद्धि और उस बिक्री से लाभ, कैटेगरी मैनेजमेंट के प्रमुख संकेतक होते हैं।

इस प्रकार से, कंपनी और खरीदार दोनों के लिए रिटेल स्पेस को अधिक सुविधाजनक और क्रियाशील बनाते हुए, रिटेल स्पेस को सुव्यवस्थित करने में कैटेगरी मैनेजमेंट अहम भूमिका निभाती है। कैटेगरी मैनेजमेंट का लक्ष्य — लाभ और बिक्री में वृद्धि करना होता है।

कैटेगरी मैनेजमेंट के लाभ और हानि

कैटेगरी मैनेजमेंट के लाभों की निम्नलिखित सूची बनाई जा सकती है:

  • सुविधा और एसोर्टमेंट की विज़ुअल विविधता स्टोर के साथ ग्राहकों की संतुष्टि को बढ़ाता है।
  • एवरेज चेक, ग्राहक की वफादारी और बिक्री की कुल संख्या बढ़ाता है।
  • ठेकेदारों और आपूर्तिकर्ताओं के साथ काम को आसान बनाता है।
  • इलिक्विड अवशेष की मात्रा को कम करता है।
  • कंपनी की एक सकारात्मक छवि बनाता है।

कैटेगरी मैनेजमेंट के सकारात्मक पक्ष होने के बावजूद, इसके नुकसान भी हैं। मुख्य नुकसान केवल दो हैं:

  • कर्मीयों की समस्या। कैटेगरी मैनेजमेंट — के कार्यान्वयन के लिए एक विशेष व्यक्ति की ज़िम्मेदारी होती है – कैटेगरी मैनेजर। इसके लिए, उसे आवश्यक ज्ञान होना चाहिए, अर्थात्, मार्केटिंग में अनुभव होना चाहिए, प्रोडक्ट मैनेजमेंट की समझ होनी चाहिए, विश्लेषणात्मक कौशल और ज्ञान होना चाहिए।
  • सप्लाई चेन में एसोर्टमेंट और स्टॉक मैनेजमेंट की प्रक्रिया। यदि पदों और समकक्षों की संख्या बढ़ती है, तो विश्लेषण की वस्तुओं की संख्या बढ़ती है, साथ ही सप्लाई चेन भी। इसलिए, मल्टी-फॉर्मेट रिटेल वाले विकसित स्टोर चेन के लिए कैटेगरी मैनेजमेंट उपयुक्त नहीं होता है।

खरीदारी में कैटेगरी मैनेजमेंट

खरीदारी में कैटेगरी मैनेजमेंट

कैटेगरी मैनेजमेंट की अवधारणा का उपयोग अक्सर रिटेल में किया जाता है, क्योंकि इसमें परचेस मैनेजमेंट शामिल होता है और आपको अधिकतम लाभ के साथ सही प्रोडक्ट खरीदने, पैसे बचाने और अधिक स्थिर साझेदारी स्थापित करने की अनुमति मिलती है। इस प्रकार, खरीदारी में कैटेगरी मैनेजमेंट में कंपनी और उसके व्यापार की अधिकतम प्रभावशीलता प्राप्त करने के लिए खरीद गतिविधियों के लिए रणनीतिक रूप से सत्यापित, संपूर्ण और चरणबद्ध दृष्टिकोण शामिल होता हैं।

कैटेगरी मैनेजमेंट को लागू करने की प्रैक्टिस

कैटेगरी मैनेजमेंट की प्रथा पहली बार 1990 के दशक की शुरुआत में आई। इस शब्द को व्यापार इकाइयों के प्रबंधन को सरल बनाने के लिए हाइजीन  प्रोडक्ट्स  कंपनी Procter & Gamble द्वारा पेश किया गया, ताकि व्यापार वस्तुओं के प्रबंधन को लचीला और संरचित श्रेणियों में समूहित करके उन्हें सरल बनाया जा सके। इस तथ्य के कारण कि प्रोडक्ट की तुलना में प्रोडक्ट की केटेगरी का विश्लेषण करना वास्तव में आसान है, इस दृष्टिकोण ने रिटेल सेक्टर में तेजी से लोकप्रियता हासिल की। हालांकि, मैनजमेंट के फाउंडर, जिन्होंने कैटेगरी मैनेजमेंट की सैद्धांतिक नींव विकसित की, को दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, ब्रायन एफ हैरिस का प्रोफेसर माना जाता है। उन्ही की वजह से कैटेगरी मैनेजमेंट पद्धति दिखाई दी, जो आज तक विभिन्न कंपनियों द्वारा उपयोग और एडेप्ट की जाती है।

कैटेगरी मैनेजमेंट के उपकरण

कैटेगरी मैनेजमेंट में, किसी भी मार्कटिंग के उपकरण का उपयोग करने की अनुमति है जो विक्रेता और कंपनी के मालिक को खरीदारों की जरूरतों, एसोर्टमेंट, सप्लायर्स और प्रोडक्ट्स के फायदे के बारे में उनकी राय का एक विस्तृत विचार प्राप्त करने की अनुमति देता है। यहाँ तक कि प्राथमिक अंकगणित इसके लिए उपयोगी है, लेकिन निम्नलिखित कैटेगरी मैनेजमेंट के उपकरण अक्सर लागू होते हैं: 

  • SWOT-विश्लेषण - यह एक स्ट्रेटेजिक योजना की पद्धति है जो आपको कंपनी और गठित श्रेणी, विशिष्ट प्रोडक्ट्स और यहां तक कि खरीदार दोनों की ताकत और कमजोरियों को निर्धारित करने की अनुमति देती है।
  • PEST-विश्लेषण – यह बाहरी माहौल का विश्लेषण करने, खतरों और उद्योग के रुझानों की पहचान करने के लिए एक स्ट्रेटेजिक उपकरण है।
  • रेट्रोस्पेक्टिव - यह पिछले परिणामों (सप्लायर्स का मूल्यांकन करने के लिए प्रयुक्त) का विश्लेषण और चर्चा करके वर्तमान व्यावसायिक प्रक्रियाओं में सुधार करने की एक विधि है।
  • A/B टेस्ट - A/B टेस्ट परीक्षण का उपयोग किसी विशेष कैटेगरी, कैटेगरी मैनेजमेंट, कैटेगरी के प्रचार आदि की प्रभावशीलता का मूल्यांकन करने के लिए किया जाता है।
  • सर्वेक्षण या प्रश्नावली – यह स्ट्रेटेजी या कैटेगरी को निर्धारित करने के लिए क्लाइंट्स की जरूरतों की खोज करने का एक तरीका है।
  • निर्णयावली  (नीचे अनुभाग देखें)।

कैटेगरी मैनेजमेंट के कम्पोनेंट्स 

कैटेगरी मैनेजमेंट के कम्पोनेंट्स 

कैटेगरी मैनेजमेंट की संरचना में तीन मुख्य कम्पोनेंट्स शामिल हैं:

  • फिलोसोफी का विवरण - ये बिज़नेस मैनेजमेंट की रणनीतियाँ हैं जो विक्रेता और सप्लायर बनाते हैं। ये रणनीतियाँ व्यावसायिक इकाइयों और व्यक्तिगत व्यावसायिक प्रक्रियाओं को बनाती हैं और व्यवस्थित करती हैं, जिससे बिक्री और लाभ प्राप्त करने के लिए प्रभावी योजना सुनिश्चित होती हैं। 
  • प्रक्रिया का विवरण - विक्रेता और सप्लायर संयुक्त रूप से पिछली अवधि के विश्लेषण और परिणामों के आधार पर कैटेगरी के प्लान्स विकसित करते हैं, साथ ही रणनीतिक और वित्तीय कार्यों को निर्धारित करते हैं जिन्हें कैटेगरीज़ को पूरा करना चाहिए।
  • संगठनात्मक अवधारणा – यह खरीदारी की योजना होती है और लॉजिस्टिक, प्रोमो और बिक्री में विचारों के कार्यान्वयन के लिए एक योजना होती है।

कैटेगरी मैनेजमेंट में कैटेगरीज की भूमिका

कैटेगरी की भूमिका — यह एक लक्ष्य होती है जिसके लिए रिटेल के लिए प्रोडक्ट्स का एक विशेष समूह बनाया जाता है। सरल शब्दों में, यह भूमिका ही है जो खरीदार के द्वारा माल की धारणा को निर्धारित करती है और आपको कमोडिटी यूनिट्स को एक कैटेगरी में जोड़कर व्यवस्थित करने की अनुमति देती है। कैटेगरी मैनेजमेंट में कैटेगरीज़ की निम्नलिखित मुख्य भूमिकाएँ होती हैं:

  1. टारगेट या यूनिक कैटेगरी। इसमें वह सामान शामिल होते है जिसके लिए खरीदार उद्देश्यपूर्ण तरीके से यात्रा करता है। ये सामान कंपनी के लिए सबसे महत्वपूर्ण होते हैं, क्योंकि ये टर्नओवर और लाभ पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उदाहरण के लिए, एक किताबों की दुकान के लिए, टारगेट कैटेगरी किताबें होंगी, लेकिन सॉफ्ट टॉय और बैग इस कैटेगरी में शामिल नहीं होंगे।
  2. मेन या बेस कैटेगरी। वह सामान जो खरीदार के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन वे क्लाइंट्स की प्राथमिकता नहीं होती है। यानी वे टर्नओवर और प्रतिस्पर्धा के लिए फायदेमंद हैं, लेकिन खुद खरीदार के लिए नहीं। किताबों की दुकान के मामले में, इनमें शामिल हैं, उदाहरण के लिए, ऑफ़िस के लिए स्टेशनरी के सामान।
  3. मौसमी कैटेगरी। वह सामान जो महत्वपूर्ण हैं और एक निश्चित समय अवधि में बेचे जाते हैं, जो वर्ष या त्योहारों के समय के साथ मेल खाते हैं। इस अवधि के दौरान वे अन्य सामानों पर भी प्राथमिकता देते है। उदाहरण के लिए, हैलोवीन के समय में, किताबों की दुकानें आर्टिफीसियल कद्दू बेच सकती है।
  4. संबंधित कैटेगरी। माध्यमिक सामान जो खरीदार के लिए या चेन के लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं, लेकिन उन्हें स्टोर के एसोर्टमेंट में रखने से क्लाइंट का समय बच सकता है और उनके माध्यमिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। ये सामान अक्सर "स्टेटस" होते हैं और ब्रांड की छवि और मान्यता को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए, ब्रांडेड थैले या संग्रहणीय मूर्तियाँ (किसी पात्र को प्रदर्शित करने वाले छोटे खिलौने)।

कैटेगरी मैनेजमेंट की रणनीतियाँ

कैटेगरी मैनेजमेंट की रणनीतियाँ

कैटेगरी मैनेजमेंट और इसकी गतिविधियों की दिशा के लिए निम्नलिखित रणनीतियों को प्रतिष्ठित किया जा सकता है:

  • इष्टतम वर्गीकरण (optimal assortment) का निर्माण और सक्षम वर्गीकरण नीति (competent assortment policy) का निर्माण। यह रणनीति स्पष्ट स्थिति के माध्यम से कंपनी के सभी प्रोडक्ट ग्रुप्स के डेवलपमेंट के उद्देश्य से है। इसका लक्ष्य — कैटेगरी को लाकर क्लाइंट्स की जरूरतों और कंपनी के ब्रांड का मेल कराना है, ताकि कैटेगरी नियोजित आय लाए। इस उद्देश्य के लिए, मार्केटिंग डिपार्टमेंट के एनालिटिकल डाटा, साथ ही सर्वे और प्रश्नावली के माध्यम से एकत्र किए गए खरीदारों की राय का उपयोग एसोर्टमेंट के निर्माण में किया जाता है।
  • प्रोडक्ट के प्रमोशन का मैनेजमेंट। इस रणनीति का उद्देश्य ट्रेड मार्केटिंग और BTL उपकरणों के आधार पर प्रोडक्ट कैटेगरीज़ को लोकप्रिय बनाने के लिए आवश्यक मार्केटिंग गतिविधियों की एक श्रृंखला बनाना है। कैटेगरी मैनेजमेंट एनालिटिक्स के इस्तेमाल से बिक्री बढ़ाने में भी मदद मिलती है।
  • प्रोडक्ट की सही प्रस्तुति। वरीयताओं और क्लाइंट की जरूरतों का अध्ययन करने की प्रक्रिया में, एक व्यापार नीति का गठन किया जाता है, जो बाजार में प्रोडक्ट की श्रेणियों को प्रभावी निकासी प्रदान करता है। यह रणनीति आपको मांग में बदलाव का तुरंत जवाब देने और प्लान्स या कैटेगरीज़ को स्वयं समायोजित करने की अनुमति देती है, जिसमें वे प्रोडक्ट शामिल होते हैं जो क्लाइंट्स के लिए अधिक महत्व रखते हैं।

कैटेगरी मैनेजमेंट की निर्णयावली

कैटेगरी मैनेजमेंट में निर्णयावली खरीदारी करने के दौरान खरीदार की निर्णय लेने की प्रक्रिया का एक योजनाबद्ध (विज़ुअल) कल्पना होता है। वास्तव में, पेड़ क्लाइंट के पथ को प्रदर्शित करता है, जिस क्षण से वह किसी प्रोडक्ट का चयन करता है, जिस क्षण से वह स्टोर पर जाता है, जिस क्षण वह भुगतान करता है। निर्णयावली की इमेज रणनीति विकसित करते समय अप्रत्याशित अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए सबसे अच्छे एनालिटिक्स टूल में से एक है और पूरे ट्रेडिंग नेटवर्क के विकास में योगदान करने वाली परिकल्पनाओं का निर्माण कर सकती है।

निर्णयावली आपको अनुमति देती है:

  1. प्रोडक्ट्स को समूहीकृत करके खरीदार के सफ़र को सरल बनाना जिस तरह से वे आमतौर पर उन्हें ढूंढते हैं/
  2. कुछ कैटेगरीज़ के लिए मांग बढ़ाना और समझना कि कौन-सा प्रोडक्ट छोड़ने लायक हो सकते हैं (या उन्हें क्लाइंट के पथ में कैसे शामिल किया जाए)/
  3. पता लगाना कि प्रोडक्ट एक दूसरे के साथ कैसे प्रतिस्पर्धा करते हैं और किस आधार पर एक या दूसरे जीतते हैं/
  4. कैटेगरीज़ की सीमाओं को परिभाषित करना और यदि आवश्यक हो तो उन्हें संकीर्ण करना या उनका विस्तार करना/
  5. खरीदारों की ज़रूरतों को समझना जो उन्हें किसी विशेष दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

निर्णयावली इस प्रकार से दिख सकती है:

glossarii-hi

कैटेगरी मैनेजमेंट में अवस्थांतर के चरण

कैटेगरी मैनेजमेंट में अवस्थांतर के चरण

कैटेगरी मैनेजमेंट में अवस्थांतर के मुख्य चरण इस प्रकार हैं:

चरण 1। विश्लेषण और संश्लेषण

माल के वर्गीकरण (assortment) की निगरानी (monitoring) यह पता लगाने के लिए की जाती है कि क्या और कितना खरीदा जा रहा है, कितनी बार खरीदारी की जा रही है, इस पर कितना बजट खर्च किया जा रहा है और कंपनी का मुख्य पार्टनर (सप्लायर) कौन है। यह सामग्री और सप्लायर्स के आधार पर मुख्य प्रोडक्ट कैटेगरीज को उजागर करेगा, जो भविष्य में मदद करेगा।

चरण 2। अनुसंधान

सबसे अधिक लाभदायक और प्रभावशाली पार्टनर्स का चयन करने के लिए सप्लायर्स के मार्केट और B2B- मार्केट का अध्ययन किया जाता है। एक स्पष्ट सूची बनाने की आवश्यकता होती है जिसमें सप्लायर के संपर्क, नियम, लागत और अन्य शर्तों सहित पिछले अनुभव (यदि कोई है) से रिमार्क को शामिल किया जाता है।

चरण 3। रणनीति का विकास

व्यावसायिक प्रक्रियाओं और प्रोडक्ट की रेंज को अनुकूलित करने के लिए कार्यों की योजना का गठन करना होता है। इस स्तर पर, खरीद रणनीति को विकसित की जाती है और इष्टतम तरीके, आवश्यकताओं और कार्यों के एल्गोरिदम निर्धारित किए जाते हैं। आप सप्लायर्स से बात करने के लिए अलग-अलग स्क्रिप्ट विकसित कर सकते हैं और उनमें सबसे लोकप्रिय आपत्तियों पर काम कर सकते हैं।

चरण 4। पार्टनरशिप के व्यवहार को बनाना

कैटेगरी मैनेजमेंट को सुरक्षित रूप से कार्यान्वित करने के लिए, जो मुख्य रूप से सप्लायर्स पर निर्भर करता है, सभी जोखिमों और आवश्यकताओं का मूल्यांकन किया जाता है। सबसे लाभदायक शर्तों पर पार्टनर्स से सहमत होना, माल की मात्रा और सभी समझौतों को तय करना जरूरी होता है। 

चरण 5। परिणामों का मूल्यांकन

प्रदर्शन के गुणात्मक संकेतक निर्धारित किए जाते हैं और मुख्य मानदंडों को अनुमोदित किया जाता है जिसके द्वारा कार्य के आगे के परिणामों का मूल्यांकन किया जाता है। न केवल सप्लायर्स के साथ व्यवहार का मूल्यांकन किया जाता है, बल्कि खरीद प्रबंधन की वर्तमान रणनीति, गठित वर्गीकरण (assortment) आदि का भी मूल्यांकन किया जाता है। ऐसा करने के लिए, आप टीम के साथ विचार-मंथन कर सकते हैं या एक अलग स्पेशलिस्ट (कैटेगरी मैनेजर) को नियुक्त कर सकते हैं।

कैटेगरी मैनेजमेंट के 8 चरण

कैटेगरी मैनेजमेंट के 8 चरण

कैटेगरी मैनेजमेंट में सफलतापूर्वक आने के बाद, आप सीधे अपने कार्यान्वयन के लिए आगे बढ़ सकते हैं। कैटेगरी मैनेजमेंट की प्रक्रिया में  निम्नलिखित चरण शामिल होते हैं:

  1. कैटेगरी की परिभाषा। इस स्तर पर, विक्रेता प्रोडक्ट्स के उपयोग, विशेषताओं, क्लाइंट्स के बीच उनकी लोकप्रियता, पैकेजिंग की उपलब्धता या ऐसे ही अन्य मापदंडों के आधार पर उन्हें समूहों में विभाजित करता है। यहाँ सवाल उठ सकता है कि किस मापदंड के अनुसार कैटेगरीज़ को बनाना चाहिए - आपको केवल अपने व्यवसाय के लक्ष्यों और प्रकार, अपनी प्राथमिकताओं और उपलब्ध संसाधनों से ही शुरुआत करनी चाहिए।
  2. कैटेगरी की भूमिका। इसके बाद, विक्रेता प्रत्येक समूह के महत्व के स्तर को निर्धारित करता है, इस प्रकार वह कैटेगरीज़ को खरीदारों की जरूरतों के साथ तुलना करके उन्हें प्राथमिकता देता है। खरीदार के लिए माल जितना अधिक माँग में होता है और महत्वपूर्ण होता है, उनकी भूमिका उतनी ही अधिक होती है। इस जानकारी के आधार पर, पूरे बिज़नेस के संसाधनों के भविष्य में आवंटित करने के लिए अक्सर एक आधार भी विकसित किया जाता है।
  3. कैटेगरी का आकलन। विक्रेता माल की बिक्री की संख्या, कुल लाभ, आर्थिक लाभप्रदता और सप्लायर के बारे में जानकारी को ध्यान में रखते हुए एक विशिष्ट कैटेगरी का विश्लेषण करता है। मूल्याँकन के लिए विश्लेषण के विभिन्न तरीकों की आवश्यकता होगी जो प्रत्येक कैटेगरी की ताकतों और कमज़ोरियों के साथ-साथ इसकी संभावनाओं का भी समझदारी से आकलन करने में सक्षम हों।
  4. कैटेगरी की प्रभावशीलता का निर्धारण। विक्रेता कैटेगरीज़ की प्रभावशीलता के मूल्याँकन के लिए विशिष्ट आवश्यकताएँ और मानदंड विकसित करता है। ऐसे संकेतकों की पहचान करना आवश्यक होता है जो संख्यात्मक और गुणात्मक माप के लिए उत्तरदायी होंगे। अक्सर, बिक्री की संख्या, खरीद की मात्रा, मार्जिन और पेबैक अनुपात (GMROI) को ध्यान में रखा जाता है।
  5. प्रत्येक कैटेगरी के लिए रणनीति का विकास। विक्रेता प्रत्येक कैटेगरी के लिए लक्ष्य निर्धारित करता है और बिज़नेस प्रक्रियाओं को अनुकूलित करता है ताकि वे अपने अधिकतम कार्यान्वयन में योगदान दें। रणनीति विकसित करने का मुख्य लक्ष्य उत्पाद की कैटेगरीज़ के प्रभावी प्रचार और बिक्री के लिए संसाधनों की तर्कसंगत योजना बनाना होता है।
  6. कैटेगरी के टैक्टिक्स का विकास। इस चरण पर, विक्रेता स्पष्ट रूप से कैटेगरी के वर्गीकरण (assortment) को परिभाषित करता है, प्रोडक्ट की कीमतों और अलमारियों में माल के स्थान को निर्धारित करता है (जो रणनीति के सही कार्यान्वयन के लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण है)। इसके अतिरिक्त, यह टैक्टिक कैटेगरी कार्यनीतियों के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए किए जाने वाले विशिष्ट कार्यों को परिभाषित करती है।
  7. कैटेगरी का इन्ट्रोडक्शन। विक्रेता शेड्यूल और ज़िम्मेदारियों की सूची का व्यवस्थित रूप से पालन करके कैटेगरी की बिज़नेस-प्लान को लागू करता है। योजना का कार्यान्वयन बिना किसी परिवर्तन या तत्काल समायोजन (जो कैटेगरी मैनेजमेंट के लिए महत्वपूर्ण है) के बिना पहले से निर्धारित कार्यों के अनुसार होता है।
  8. कैटेगरी की समीक्षा। इस चरण पर, विक्रेता, सप्लायर के साथ, कैटेगरी की समीक्षा करता है, साथ ही इसकी प्रभावशीलता और पूर्ण बिज़नेस-प्लान की प्रभावशीलता का आकलन करता है। यदि इस बिज़नेस-प्लान में कोई भी नए अवसर या खतरों की पहचान की जाती है, तो एक वैकल्पिक योजना विकसित की जाती है और अपनाई जाती है। इससे कंपनी को बेहद सर्वोत्तम तरीकों का चयन करने में मदद मिलती है।

कोर्स, ट्रेनिंग और संबंधित प्रशिक्षण से कैटेगरी मैनेजमेंट में महारत हासिल करने में मदद मिलेगी। आज के समय में सार्वजनिक डोमेन में पाई जाने वाली पाठ्यपुस्तकें भी मदद करेंगी। उदाहरण के लिए, जॉन ओ'ब्रायन की पुस्तक "कैटेगरी मैनेजमेंट इन प्रोक्योरमेंट: ए स्ट्रैटेजिक अप्रोच", जो इस प्रकार के मैनेजमेंट के सभी सिद्धांतों और प्रैक्टिकल के बारे में बताती है।

कैटेगरी मैनेजमेंट के उदाहरण 

कैटेगरी मैनेजमेंट के उदाहरण 

E-commerce fashion स्टोर में कैटेगरीज़ का एक उदाहरण इस तरह दिख सकता है:

  • कपड़े: टी-शर्ट, शर्ट, शॉर्ट्स, ड्रेस, जींस।
  • ऐक्सेसरीज़: बैग, बैकपैक, गहने, हैट्स।
  • जूते: बूट्स, स्नीकर्स, कैन्वस जूते, सैन्डल।
  • एलीट संग्रह: ब्रैन्डेड आइटम।
  • मौसमी कपड़े: कोट, टोपियाँ, दस्ताने, छाते।

कैटेगरी मैनेजमेंट की विशेषताएँ यह भी दर्शाती हैं कि एक कैटेगरी की अपनी उप- कैटेगरी भी हो सकती है (जिसे या तो अन्य उप- कैटेगरीज़ से अलग या उनके साथ संयोजन में माना जा सकता है)। यह मुख्य रूप से कस्टमर सर्विस की गुणवत्ता में सुधार के लिए किया जाता है। स्थान की ऐसी व्यवस्थता, दुकानों को ढूँढने, सामान पसंद करने और विशिष्ट प्रोडक्ट्स की खोज को सुविधाजनक बनाता है।

इसके अलावा, कैटेगरी मैनेजमेंट का उपयोग, उदाहरण के लिए, फ़ार्मेसी या किसी अन्य उद्योग में कुछ ऐसे प्रोडक्ट, जो बहुत सफल नहीं हो पाए, उनकी बिक्री बढ़ाने के लिए किया जा सकता है। मान लें कि एक कैटेगरी में ब्रैन्ड A और ब्रैन्ड B शामिल हैं। जब ब्रैन्ड A सक्रिय रूप से टेलीविजन पर अपने प्रोडक्ट्स का प्रचार करता है, तो स्टोर में उसके प्रोडक्ट ब्रैन्ड B के प्रोडक्ट्स की तुलना में तेज़ी से बिकते हैं, जिसके कारण विक्रेता को सबसे पहले नुकसान होता है, क्योंकि अब उसके पास बहुत सारा बिना बिका हुआ माल है। इस मामले में, कैटेगरी मैनेजमेंट करने से यह समझने में मदद मिलेगी कि स्थानीय स्तर पर, यानी किसी विशेष स्टोर में ब्रैन्ड B द्वारा किए गए प्रचार की कमी की भरपाई कैसे की जाए, ताकि किसी भी प्रोडक्ट को समान रूप से बेचा जा सके। उदाहरण के लिए, निर्णयावली बनाने और कस्टमर्स के बारे में जानकारी एकत्र करने के बाद, विक्रेता, ब्रैन्ड A के लिए एक अलग कैटेगरी रख सकता है या उसे किसी सामान सफल ब्रैन्ड के साथ रख सकता है, और ब्रैन्ड B के लिए, स्टोर के भीतर ही अधिक प्रचार के साथ, एक छोटी कैटेगरी आवंटित कर सकता है।

ओमनीचैनल

कोल्ड कॉलिंग