कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



उबेराइजेशन

उबेराइजेशन क्या है?

उबेराइजेशन — यह व्यवसाय में आधुनिक उच्च तकनीक द्वारा किसी बिचौलियों द्वारा अपनी जगह बना लेना है, जैसे कि मोबाइल ऐप या प्लेटफ़ॉर्म जहां आप अपनी डिमांड के लिए सप्लायर ढूंढ सकते हैं। यह प्लेटफ़ॉर्म ग्राहक और सर्विस प्रोवाइडर यानी सेवा प्रदाता के बीच बातचीत की सुविधा प्रदान करता है और सेवा की गुणवत्ता की निगरानी करता है। ग्राहकों और सेवा प्रदाता के बीच बिचौलियों की जगह लेने वाली पहली एग्रीगेटर यानी समूहक कंपनी थी Airbnb—  एक सेवा प्रदानकर्ता कंपनी है जो आपको थोड़े समय के लिए आपके आवास को किराये पर देने का मौका देती है। हालाँकि, उबेराइजेशन को इसका नाम एक दूसरी कंपनी, Uber की बदौलत मिला। कंपनी ने एक मोबाइल ऐप बनाया है जो लोगों को वैयक्तिक टैक्सी सेवाओं को चुनने, इस्तेमाल करने और सेवा का भुगतान करने की अनुमति देता है।

आज, बहुत सी कंपनियां Uber के समान बिज़नेस मॉडल का उपयोग कर रही हैं: वे ऐसे प्लेटफॉर्म लॉन्च कर रही हैं जहां विक्रेता और खरीदार स्वतंत्र रूप से किसी डील पर बातचीत कर सकते हैं। उबेराइजेशन में आमतौर पर तीन आधार स्तंभ होते हैं: 

  • विक्रेता और खरीदार के बीच मध्यस्थता करने वाली सेवा (उदाहरण के लिए, मोबाइल फोन पर एक ऐप)।
  • कंपनियां जो सेवायें प्रदान करती हैं।
  • उपभोक्ता जो सेवायें खरीदते हैं।

कोई सर्विस या एग्रीगेटर प्लेटफॉर्म एक मध्यस्थ के रूप में काम कर सकता है यदि ग्राहक और सेवा प्रदाता के बीच सहयोग का आदान-प्रदान किया जा सके और सेवा प्रदाता के काम का आकलन करने के लिए स्पष्ट मानदंड का निर्माण किया जा सकें। प्लेटफ़ॉर्म सेवा की गुणवत्ता की गारंटी तभी दे सकता है जब ऐसे सामान्य मानकों को स्थापित करना संभव हो।

उबेराइजेशन कंपनी और ग्राहक के बीच के संबंधों के लिए पूरी तरह से एक नया दृष्टिकोण है, जिसका व्यवसाय पर और यहां तक ​​कि समग्र रूप से अर्थव्यवस्था पर भी प्रभाव बढ़ रहा है।

अर्थव्यवस्था का उबेराइजेशन

अर्थव्यवस्था का उबेराइजेशन — एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें विभिन्न तकनीकों का विस्तृत उपयोग किया जाता है: मुख्य रूप से नई तकनीकें और अत्याधुनिक व्यावसायिक तकनीकें। ये प्रक्रियाएं आपस में जुड़ी हुई हैं: तकनीकी क्षमताओं के बिना व्यापार करने के हमारे दृष्टिकोण पर पुनर्विचार करना मुश्किल है और नये दृष्टिकोणों के बिना, यहां तक ​​कि सर्वोत्तम तकनीक के द्वारा, गुणात्मक रूप से अलग परिणाम की उम्मीद करना मुश्किल है।

सभी क्षेत्रों में व्यापार का उबेराइजेशन करना संभव नहीं है। मुख्य शर्तों में से एक यह है कि सेवा प्रदाता के प्रस्तावों की संख्या मांग से अधिक होनी चाहिए। यह आपको काम को इस तरह से व्यवस्थित करने की अनुमति देता है कि जब कोई ग्राहक लंबे समय से किसी सेवा का इंतजार कर रहा हो तो यह व्यवधान की संभावना को बाहर कर देगा। किसी व्यवसाय का उबेराइजेशन करना संभव है यदि किसी काम के लिए सेवा प्रदाता ढूंढना अपेक्षाकृत आसान हो, और उनकी सेवा का मूल्यांकन कुछ खास मानदंडों के अनुसार किया जा सकता हो।

आजकल सेवाओं का उबेराइजेशन चल रहा है, जैसे कि टैक्सी उबेराइजेशन। उबर ने अपने नये बिज़नेस मॉडल और टैक्सी सेवाओं की मांगों को पार करने वाले ऑफर की संख्या के कारण, तेजी से वृद्धि देखी है।

Uber की सफलता उसके नये बिज़नेस मॉडल और नई तकनीकों के संयोजन को दर्शाती है। उदाहरण के लिए, Uber के बिज़नेस मॉडल के सबसे आवश्यक तत्वों में से एक है — भुगतान का उबेराइजेशन। कंपनियों द्वारा अपने ग्राहकों को प्रदान की जाने वाली सेवाओं की सुविधा किसी भी व्यवसाय में बहुत बड़ी भूमिका निभाती है, लेकिन उबेराइजेशन के मामले में, व्यवसाय प्रक्रिया का ऑटोमेशन बहुत महत्वपूर्ण है। कंपनी में डेटा एक्सचेंज सही तरीके से होना चाहिए, अन्यथा यह प्रभावी नहीं होगा।

बाजार का उबेराइजेशन — एक अनिवार्य प्रक्रिया है: किसी न किसी तरह से, कंपनियों को ग्राहकों के साथ संबंध स्थापित करने और काम को व्यवस्थित करने के लिए नये दृष्टिकोण अपनाने होंगे। उबेराइजेशन का कर्मचारियों के साथ संबंधों पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है, जिससे भर्ती का उबेराइजेशन तैयार होता है।

भर्ती का उबेराइजेशन

जहां भी नये या अस्थायी कर्मचारियों की निरंतर आवश्यकता होती है, या जब कंपनी को किसी अन्य शहर या देश में कर्मचारियों को नियुक्त करने की आवश्यकता होती है, तो कंपनियों को नौकरियों के लिए भर्ती के उबेराइजेशन की आवश्यकता होती है। नई तकनीकों की मदद से कर्मियों की कमी को जल्दी से पूरा करना, संकट के समय में श्रमिकों को ढूंढना संभव है। यदि किसी कंपनी को सीज़नल काम या एक बड़े प्रोजेक्ट के लिए कर्मचारियों को नियुक्त करना है, तो वह एक ऐसी सेवा का उपयोग कर सकता है जो कंपनी को बिचौलियों से   संपर्क करने के बजाय सीधे भर्तीकर्ता से संपर्क करने की अनुमति देता है। ऐसा पहला प्लेटफॉर्म था BountyJobs वेबसाइट।

एक ख़ास विशेषज्ञता वाले उच्च योग्य विशेषज्ञ को नियुक्त करने के लिए कंपनी को HR-मैनेजर की सेवा  की भी आवश्यकता हो सकती है। हो सकता है कि आंतरिक HR-मैनेजर के पास उस क्षेत्र में पर्याप्त ज्ञान या कॉन्टैक्ट न हों; ऐसे में कंपनी किसी थर्ड-पार्टी विशेषज्ञ की सहायता ले सकती है। आप उसे किसी एग्रीगेटर साइट पर ढूढ़ सकते हैं।

कॉन्ट्रैक्ट वर्क और फ्रीलांस एक्सचेंजों की बदौलत, श्रम का उबेराइजेशन तेज हो रहा है: ऐसे पेशेवर लोग बढ़ते ही जा रहे हैं जो अधिक स्वतंत्रता और गतिशीलता चाहते हैं। वे अस्थिर कमाई और सीज़नल काम के लिए तैयार हैं। काम करने का यह तरीका पहले भी मौजूद था, पर अब और ज़्यादा लोकप्रिय हो रहा है।

कोरोनावायरस महामारी के कारण कर्मचारियों के उबेराइजेशन में तेजी आई है: रिटेल और कूरियर सेवाओं को अप्रत्याशित चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसमें नई तकनीकों ने उनकी काफी मदद की है। क्वारंटाइन के उपायों ने व्यापार के नये चैनलों के विकास को बढ़ावा दिया: लोगों ने इंटरनेट पर ज़्यादा खरीदारी करनी शुरू दी और कूरियर डिलीवरी सेवा का उपयोग करने लगे। कंपनियों को और कर्मचारियों की भर्ती करने की जरूरत आ पड़ी। उबेराइजेशन ने कंपनियों को प्राइवेट भर्ती करने वालों को खोजने का मौका दिया, जो जल्दी से कर्मचारियों की भर्ती कर सकते थे या जॉब एग्रीगेटर साइटों का उपयोग करके नये कर्मचारियों को आकर्षित कर सकते थे।

Uber व्यवसाय करने के बिलकुल नये तरीके का प्रतीक बन गया है, जब ग्राहक और सेवा प्रदाता एक विशेष सेवा (एक मोबाइल ऐप या प्लेटफॉर्म) का उपयोग करके सीधे काम कर सकते हैं। इस स्थिति में, प्लेटफ़ॉर्म गारंटी देता है कि सेवायें गुणवत्ता मानकों को पूरा करें। अभी उबेराइजेशन का उपयोग मुख्य रूप से सर्विस सेक्टर में किया जाता है, जहां सेवा की गुणवत्ता का आकलन करना आसान है, लेकिन भविष्य में उबेराइजेशन अधिक व्यापक रूप से उपयोग होने वाला है, जिसमें भर्ती में उबेराइजेशन भी शामिल है। नई तकनीकों के आने और करियर बनाने के हमारे बदलते दृष्टिकोण के कारण इस विकास की संभावना बढ़ रही है।

उत्पाद जीवन चक्र

ऑटोमोटिव सेल्स फ़नल