कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



टाइम मैनेजमेंट

टाइम मैनेजमेंट क्या है?

टाइम मैनेजमेंट क्या है

टाइम मैनेजमेंट — अगर संक्षेप में कहें तो, समय को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के तरीके को टाइम मैनेजमेंट कहते हैं। सक्षम समय नियोजन, या टाइम मैनेजमेंट, आपको ऐसा महसूस कराता है कि आपके दिन में कुछ अतिरिक्त घंटे हैं। टाइम मैनेजमेंट को विभिन्न क्षेत्रों में लागू किया जा सकता है: अपने काम के घंटों के अलावा, स्कूल (छात्रों और स्कूली बच्चों के लिए), और दैनिक जीवन (माताओं के काम) का प्रबंधन।

आज, न केवल पर्सनल टाइम मैनेजमेंट बल्कि कॉर्पोरेट टाइम मैनेजमेंट का भी आमतौर पर उपयोग किया जाता है, जब कॉर्पोरेट समय प्रबंधन की विधियों को कंपनी के प्रशासन में शामिल किया जाता है। कॉर्पोरेट टाइम मैनेजमेंट तभी अच्छी तरह काम करता है जब प्रबंधकों और कर्मचारियों के बीच अच्छा संचार हो। आखिरकार, कंपनी जिन नए तरीकों को लागू करने जा रही है, वे कर्मचारियों के लिए असुविधाजनक हो सकते हैं और उनकी दक्षता को सुधारने के बजाय उसे कम कर सकते हैं। यह जोखिम विशेष रूप से तब ज़्यादा होगा, जब प्रबंधन सख़्त टाइम मैनेजमेंट का उपयोग करता है। इसलिए, कॉर्पोरेट टाइम मैनेजमेंट के तरीकों को समायोजित करने के लिए समस्याओं से तुरंत अवगत होना महत्वपूर्ण है।

किसी मैनेजर के लगातार नज़र रखने के बजाय, कॉर्पोरेट टाइम मैनेजमेंट उच्च स्तर की प्रेरणा और अधिक स्वतंत्रता का मौका देता है। इसलिए, जब कर्मचारी अपने समय के प्रबंधन के लिए अपने खुद के तरीके और दृष्टिकोण चुनते हैं, तो पर्सनल टाइम मैनेजमेंट अधिक प्रभावी होता है।

आप सब कुछ करने का प्रबंधन कैसे कर सकते हैं? यह सवाल आजकल लगभग हर कोई खुद से पूछता है। टाइम मैनेजमेंट का इतिहास एक दशक से भी अधिक पुराना है, हालाँकि, आज टाइम मैनेजमेंट की मूल बातें पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक हैं। न केवल वयस्कों के लिए बल्कि किशोरों और बच्चों के लिए भी। टाइम मैनेजमेंट स्किल सिर्फ उन महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं जो नौकरी करती हैं, बल्कि घर चलाने और बच्चों की परवरिश करने वाली महिलाओं के लिए भी उतना ही ज़रूरी है। इस स्थिति में महिलाओं के टाइम मैनेजमेंट में बहुत व्यापक कार्य शामिल होंगे।

आज के ज़माने के व्यक्ति को वर्तमान जीवनशैली के साथ तालमेल बिठाने के लिए कम से कम टाइम मैनेजमेंट के बुनियादी नियमों को जानना चाहिए। टाइम मैनेजमेंट की कई तकनीकें हैं लेकिन आपको उन सभी को एक साथ लागू नहीं करना चाहिए — आपको उस तकनीक पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जो आपको आपकी स्थिति में सर्वोत्तम परिणाम हासिल करने का मौका दे।

विषय के अनुसार सीखना

टाइम मैनेजमेंट (समय प्रबंधन) सिस्टम

टाइम मैनेजमेंट (समय प्रबंधन) सिस्टम

टाइम मैनेजमेंट सिस्टम में कई तरीके, दृष्टिकोण और तकनीक शामिल हैं जो आपको और अधिक हासिल करने में सक्षम बनाते हैं। किसी खास प्रणाली की अंतर्निहित अवधारणा के आधार पर टाइम मैनेजमेंट सिद्धांत भिन्न हो सकते हैं।

प्रणालियां इस आधार पर भिन्न होती हैं, कि कौन से बुनियादी सिद्धांत सबसे बड़ी भूमिका निभाते हैं। इनमें से ज़्यादातर तकनीकें प्राथमिकता पर आधारित हैं: सबसे ज़्यादा ध्यान महत्वपूर्ण कार्यों पर केंद्रित किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, स्टीफन कोवी का टाइम मैनेजमेंट मैट्रिक्स कार्यों को प्राथमिकता देने पर बनाया गया है: सभी कार्यों का मूल्यांकन दो संकेतकों के अनुसार किया जाता है — तात्कालिकता और महत्व। ज़रूरी और महत्वपूर्ण कार्यों को पहले पूरा किया जाना चाहिए, जबकि गैर-जरूरी और कम महत्व वाले कार्यों को अंत में पूरा करना चाहिए।

स्टीफन कोवी का टाइम मैनेजमेंट मैट्रिक्स

स्टीफन कोवी का टाइम मैनेजमेंट मैट्रिक्स

प्राथमिकता कई प्रबंधन प्रणालियों का मुख्य घटक है। उदाहरण के लिए, फ्रैंकलिन पिरामिड बताता है कि एक व्यक्ति को पहले अपने जीवन के मुख्य लक्ष्यों और मूल्यों को निर्धारित करना चाहिए, और फिर अपने बड़े लक्ष्यों के करीब पहुंचने के लिए अल्पकालिक योजनाएँ बनानी चाहिए। पिरामिड का काम — आपको अपने सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य को खोजने और उस पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करना है, ताकि उस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में नियमित रूप से और व्यवस्थित रूप से काम किया जा सके।

फ्रैंकलिन पिरामिड

फ्रैंकलिन पिरामिड

टाइम मैनेजमेंट सिस्टम में हमेशा जीवन के उद्देश्य और अर्थ के बारे में सार्वभौमिक प्रश्नों का उत्तर शामिल नहीं होता है: लेखक केवल टाइम मैनेजमेंट तकनीकों को लागू करने का सुझाव देते हैं जो आपको अपना समय अधिक प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में सक्षम बनाती हैं।

विषय के अनुसार सीखना

टाइम मैनेजमेंट (समय प्रबंधन) की तकनीकें और तरीके

टाइम मैनेजमेंट (समय प्रबंधन) की तकनीकें और तरीके

आपको टाइम मैनेजमेंट की आवश्यकता क्यों है? अपने समय का प्रबंधन करने के लिए और उस कीमती संसाधन को किसी ऐसी चीज़ पर बर्बाद न करने के लिए, जो न तो मज़ेदार है और न ही उपयोगी। आसान लाइफ हैक्स और टिप्स आपको महत्वपूर्ण चीजों पर ध्यान केंद्रित करने और उन्हें अधिक कुशलता से करने में मदद करेंगे।

टाइम मैनेजमेंट पर लिखी गई किताबें विभिन्न प्रकार की समय प्रबंधन तकनीकें प्रदान करती हैं, जिनमें से सर्वश्रेष्ठ मानी जाने वाली तकनीकें ये हैं:

  • पोमोडोरो तकनीक (टमाटर का सिद्धांत)- इस तकनीक का आधार है — एकाग्रता। अपने कार्यों पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करके व्यक्ति उन्हें अधिक तेज़ी से और अधिक प्रभावी ढंग से करता है। इस तकनीक का नाम टमाटर के आकार वाले किचन टाइमर पर पड़ा है, जिसके आविष्कारक, फ्रांसेस्को सिरिलो ने काम और आराम के बीच अपने समय को विभाजित करने के लिए टाइमर का उपयोग किया। तो सिरिलो ने, 25 मिनट तक, अपना पूरा ध्यान काम की समस्याओं को हल करने पर केंद्रित किया और लगभग 5 मिनट तक आराम किया। इस दृष्टिकोण ने उन्हें समय की बर्बादी (यानी, ध्यान भटकने) पर नियंत्रण करने की अनुमति दी।
  • "ईट द फ्रॉग" विधि- हम सभी के पास कुछ अप्रिय कार्य होते हैं जिन्हें हमें पूरा करना ही होता है: कॉल करना, रिपोर्ट तैयार करना, कागजी कार्रवाई करना, गलतियों को सुधारना और अन्य समस्याओं का समाधान करना। यह विधि अपने अप्रिय कार्यों को पूरे सप्ताह में समान रूप से वितरित करने और प्रत्येक दिन की शुरुआत "ईट द फ्रॉग" (एक अप्रिय कार्य को पूरा करने) से करने की सलाह देती है। यह आपको दिन के दौरान अधिक क्षमतावान रूप से काम करने की अनुमति देगा क्योंकि अब आपको अप्रिय कार्यों को करने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा।
  • स्विस चीज़ विधि- समस्याओं को हल करने का यह "स्वादिष्ट" तरीका आपको बेतरतीब ढंग से अपने लक्ष्य की ओर बढ़ने की सलाह देता है: किसी बड़े टास्क के एक टुकड़े को "काट कर खाना"। संक्षेप में, इस पद्धति के लिए क्रियाओं के एल्गोरिथ्म को संक्षेप में इस तरह लिखा जा सकता है: सबसे पहले आपको उन सभी कार्यों को लिखना होगा जिन्हें एक बड़े लक्ष्य तक पहुंचने के लिए पूरा करने की आवश्यकता है, और फिर उन्हें किसी भी क्रम में करना शुरू करें, उसी अव्यवस्थित तरीके से जैसे स्विस चीज़ के किसी टुकड़े में छेद बने होते हैं।

टाइम मैनेजमेंट टूल्स को व्यक्तिगत रूप से चुना जाना चाहिए: जो दृष्टिकोण एक व्यक्ति के लिए  प्रभावी हो सकता है, वो दूसरे के लिए अप्रभावी हो सकता है। चुने गए दृष्टिकोण को अपने जीवन में लागू करना चाहिए, अन्यथा वह उपयोगी नहीं होगा। कोई भी सुविधाजनक साधन ऐसा करने में आपकी मदद करेगा: डायरी, नोटबुक, टाइम मैनेजमेंट के लिए विशेष मोबाइल ऐप। इन नई विधियों या टाइम मैनेजमेंट टूल्स के बारे में अधिक जानकारी खोजने के लिए, आप टाइम मैनेजमेंट कोर्स में दाखिला ले सकते हैं या इस विषय के बारे में अतिरिक्त प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं: अध्ययन आपको टाइम मैनेजमेंट तकनीकों का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने योग्य बनाता है।

शेयर करना: