कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



काइनेसिक्स

काइनेसिक्स

काइनेसिक्स लोगों के बीच गैर-मौखिक संचार का अध्ययन करती है: हावभाव, मुद्राएं, चेहरे के भाव, आवाज का स्वर हमारे सच्चे विचारों और इरादों को व्यक्त करते हैं, भले ही हम उन्हें छिपाना क्यों न चाहें। काइनेसिक्स- गैर-मौखिक संचार की भाषा के अध्ययन को समर्पित मनोविज्ञान में एक अलग शाखा है। बिज़नेस में अक्सर यह परिभाषा दी जाती है - काइनेसिक्स गैर-मौखिक संचार की भाषा है।

बातचीत के समय लोग हमेशा गैर-मौखिक संकेतों, हावभावों का इस्तेमाल करते हैं - जैसे चेहरे के भाव और मुद्राएं आदि। ये हावभाव भाषण की तुलना में डेटा का अधिक स्रोत बन सकते हैं: यदि आप काइनेसिक्स समझते हैं, तो वार्ताकार आपको अपनी सोच की तुलना में बहुत अधिक "बता" जाएगा।

काइनेसिक्स के शुरुआती अध्ययन 18 वीं शताब्दी में किए गए थे। 1792 में ज्यूरिख के एक पादरी जॉन कैस्पर लैवेटर ने अपना "फिजियोलॉजी पर निबंध" प्रकाशित किया, जिसमें उन्होंने बताया कि चेहरे के भाव और शरीर की बनावट कैसे किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व की विशेषताओं से जुड़े होते हैं। बाद में ऐवोलुशन यानी विकासवाद के सिद्धांत के लेखक चार्ल्स डार्विन ने गैर-मौखिक संचार का अध्ययन जारी रखा। शब्द काइनेसिक्स की उत्पत्ति केवल बीसवीं सदी में हुई।

काइनेसिक्स के अलावा, गैर-मौखिक संचार के अन्य आयामों को भी ध्यान में रखना महत्वपूर्ण होता है, जिनमें गैर-मौखिक संचार के ये घटक शामिल हैं:

  • Proxemics यानी सामीप्य विद्या - यह इस बात का अध्ययन करती है कि लोग एक आकाशीय घटक का उपयोग करके अपने दृष्टिकोण को कैसे व्यक्त करते हैं, जैसे कि एक वार्ताकार से बात करते समय अपनी दूरी चुनना।
  • Prosody यानी छंद - भाषण की ध्वनि की रूपरेखा का अध्ययन करता है: कैसे हम शब्दों पर ध्वनि, विराम आदि के माध्यम से जोर देते हैं।
  • Tacesics यानी स्पर्श संवाद - संचार में स्पर्श- संबंधी तत्वों की खोज करता है, जैसे स्पर्श।

रोजमर्रा की हमारी ज़िंदगी में गैर-मौखिक घटक के महत्व को कम कर पाना मुश्किल है: हम अनजाने में ही बातचीत करते समय बड़ी मात्रा में लोगों के गैर-मौखिक संकेतों को पढ़ते हैं और उनका विश्लेषण करते हैं। बिज़नेस कम्युनिकेशन में गैर-मौखिक संकेत पार्टनर के साथ अधिक निकट संपर्क स्थापित करने और उनके सच्चे इरादों का अनुमान लगाने में मदद करते हैं।

काइनेसिक्स और बिज़नेस एटिकेट

बिज़नेस कम्युनिकेशन में कई वाक्यांश, हावभाव और यहां तक ​​कि वार्ताकारों के बीच की दूरी एक कल्चरल कोड द्वारा निर्धारित की जाती है। विभिन्न संस्कृतियों में वे बहुत भिन्न हो सकते हैं: उदाहरण के लिए अमेरिका में बिज़नेस पार्टनर्स हमेशा हाथ मिलाते हैं, जबकि जापान में वे एक-दूसरे का झुक कर अभिवादन करते हैं।

काइनेसिक्स में कई घटक शामिल होते हैं। बिज़नेस बातचीत में नज़र पर ध्यान देना सबसे महत्वपूर्ण होता है।  सबसे पहले यह विश्लेषण करना आवश्यक होता है कि क्या सामने वाला आँखों से आँखे मिलाकर बात करना चाहता है या नहीं: अगर वह ऐसा करना चाहता है, यानी बातचीत के विषय में उसे रूचि है। लेकिन अगर कोई बिजनेस पार्टनर आपसे नजरें मिलाने से बचता है, तो इसका मतलब सिर्फ दिलचस्पी की कमी नहीं बल्कि उसकी साधारण थकान भी हो सकती है।

बातचीत के समय न केवल नज़र पर ध्यान देने की ज़रूरत होती है बल्कि संचार का हर गैर-मौखिक माध्यम ध्यान देने योग्य होता है। बिज़नेस एटिकेट में संचार के गैर-मौखिक साधन-जैसे चेहरे के भाव, हावभाव, मुद्रा आदि- महत्वपूर्ण हैं। वार्ताकार की मुद्रा को तीन आयामों के आधार पर विश्लेषण करके समझा जा सकता है:

  • खुली मुद्रा -बंद मुद्रा। बंद मुद्रा की स्थिति में इंसान अपने हावभावों की मदद से खुद को वार्ताकार से अलग करने की कोशिश करता है: वह अपने हाथों और पैरों को क्रॉस करके रखता है, वह किसी ओर झुका रहता है, और अगर बातचीत किसी मेज़ पर हो रही हो तो वार्ताकार और अपने बीच कोई एक वस्तु रखने की कोशिश करता है
  • निर्भरता -प्रधानता। निर्भरता व्यक्त करने वाला व्यक्ति आमतौर पर नीचे से ऊपर की ओर देखता है और सिर नीचे करके बात करता है। और जो प्रधानता दिखाने का प्रयास करता है वह बिलकुल उल्टा व्यवहार करता है: वह वार्ताकार को ऊपर से नीचे के ओर देखने की कोशिश करता है, उसके हाथ या कंधे पर थपथपाता है;
  • सद्भाव-विरोध। अगर किसी इंसान का विरोध करने का मन होता है तो वह अनजाने में ही आक्रामक मुद्रा अपना लेता है, मुट्ठी भींच लेता है, अपने हाथों को अपने कूल्हों पर टिका देता है।

गैर-मौखिक संकेतों का विश्लेषण करते समय यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि संचार मनोविज्ञान में इसका कोई निश्चित स्पष्टीकरण नहीं हैं और वार्ताकार के वास्तविक उद्देश्यों की पहचान करना मुश्किल हो सकता है। फिर भी काइनेसिक्स आमतौर पर  वार्ताकार के सच्चे इरादों को बेहतर ढंग से समझने और उसके उद्देश्यों को जानने में मदद करती है। सबसे स्पष्ट वे आम इशारे होते हैं जिनका लोग सबसे अधिक उपयोग करते हैं। इस तरह के इशारे अनजाने में ही वार्ताकार के शब्दों या समस्या के प्रति किसी व्यक्ति के सच्चे रवैये को व्यक्त कर सकते हैं।

काइनेसिक्स के उदाहरण

काइनेसिक्स संचार है, इसलिए उसे समझने के लिए बारीकियां और अधकहे स्वर बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। किसी विशेष स्थिति में किसी एक विशिष्ट हावभाव की व्याख्या करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन आधुनिक विज्ञान कुछ इशारों की स्पष्ट रूप से व्याख्या करता है, उदाहरण के लिए:

  • एक व्यक्ति जो झूठ बोल रहा होता है वह खुद को ऐसा करने से रोकने के लिए अपने हाथ से अपना मुंह ढकना चाहता है। बच्चे इस तरह के एक इशारे को दोहरा सकते हैं, और वयस्क अक्सर इसे छिपाने की कोशिश करते हैं उदाहरण के लिए जम्हाई लेते समय अपने हाथ से अपना मुंह ढंकना या अपनी नाक को खरोंचना।
  • उसी तरह एक व्यक्ति द्वारा अप्रिय बातें कहते समय कानों को बंद करने की इच्छा से अपने कान के लोब को खरोंचना या रगड़ना यह दर्शाता  है कि वह एक कहानी बताने का संकेत है ।
  • जब कोई व्यक्ति अपनी ठुड्डी को अपने हाथ पर रखता  है, तो यह आमतौर पर बोरियत या थकान का संकेत देता है।
  • जब वार्ताकार दरवाजे की ओर देखने लगता है, अपने पैरों को बाहर की ओर मोड़ता है, तो यह केवल एक गैर-मौखिक संकेत ही नहीं, बल्कि एक संकेत होता है कि यह बातचीत समाप्त करने का समय हो गया  है।
  • जब वार्ताकार अपने चेहरे, गर्दन आदि को थपथपाता या खरोंचता है, तो अक्सर इसका मतलब यह होता है कि उसने  अभी तक अंतिम निर्णय नहीं लिया है लेकिन सक्रिय रूप से इस पर विचार कर रहा है। इसी तरह अपने चश्मे को कुतरने या पोंछने वाला व्यक्ति कुछ सोचने में व्यस्त हो सकता है।

काइनेसिक्स, गतिशील भाषा, का इस्तेमाल न केवल बातचीत में बल्कि विज्ञापन में अभिव्यक्ति के एक साधन के रूप में किया जा सकता है। काइनेसिक्स सीखने के कई लाभ हैं क्योंकि उसकी मदद से आप लोगों के "मन को पढ़" सकते हैं। काइनेसिक्स पर किताबें आपको इस विज्ञान के बारे में कुछ ज्ञान हासिल करने में अवश्य मदद करेंगी, लेकिन इसका एक कोर्स करना सबसे अच्छा विकल्प होगा।

कोल्ड कॉलिंग

गैंट चार्ट