कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



मानसिक नक्शा या माइंड मैप

माइंड मैप क्या होता है

माइंड मैप क्या होता है

 माइंड मैप — यह एक माइंड विज़ुअलाइज़ेशन टूल है जिसका उपयोग जानकारी एकत्र करने, उसका विश्लेषण करने, उसे याद रखने और नए विचार उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। विचारों को व्यवस्थित करने का यह तरीका व्यवसाय और रचनात्मकता के साथ-साथ मानव जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी सक्रिय रूप से उपयोग किया जाता है। माइंड मैप के अन्य नाम हैं — मन के नक़्शे, मष्तिष्क-मानचित्रण, एसोसिएटिव मैप या इंटेलिजेंस मैप। इसका मुख्य लक्ष्य है — अपने विचारों की दिशा को एक ऐसे रूप में ढालना जो किसी व्यक्ति को समझ आ सके कि इन विचारों को भविष्य में कैसे उपयोग किया जा सकता है।

 माइंडमैपकैसादिखताहै

 एक क्लासिकल माइंड मैप संस्करण में एक मुख्य विचार या आईडिया स्थित होता है, जो कि इसका केंद्र बन जाता है। बाकी सभी अतिरिक्त विचार इसके चारों ओर मौजूद रहते हैं, जो किसी सामान्य अवधारणा, विषय या तार्किक अनुक्रम द्वारा मुख्य विचार से जुड़े होते हैं। इस प्रकार, व्यवहार में, एक माइंड मैप एक सहज संरचना वाला एक नॉन-लीनियर ग्राफिक लेआउट है जिसे अपने विज़न के आधार पर बदला और अनुकूलित किया जा सकता है। किसी प्रोजेक्ट का माइंड मैप किसी भी तरह से संरचित किया जा सकता है, यहां तक ​​कि बाएं से दाएं की ओर या फिर ऊपर से नीचे की ओर — मुख्य बात यह है कि वह ग्राफिकल हो और समझने में आसान हो।

माइंड मैप की पद्धति

 1960 के दशक में टोनी बुज़न ने माइंड मैपिंग को जटिल परिस्थितियों का विश्लेषण करने और रचनात्मक रूप से समस्याओं को हल करने की एक विधि के रूप में परिभाषित किया था। हालाँकि, माइंड मैप्स के प्रोटोटाइप लंबे समय से मौजूद हैं, प्राचीन दार्शनिकों के कार्यों में भी उन्हें पाया जा सकता है। उदाहरण के लिए, जटिल जानकारी को ग्राफिकली प्रस्तुत करने का सबसे शुरुआती काम फिनीशियन दार्शनिक पोर्फिरी का है, जो कि तीसरी शताब्दी ईस्वी में रहते थे। माइंड मैप के माध्यम से उन्होंने अरस्तू के दर्शन और उनकी श्रेणियों को सुव्यवस्थित किया। और पिछली शताब्दी के 50 के दशक में, सिमेंटिक नेटवर्क की उत्पत्ति हुई जो आधुनिक माइंड मैप्स के समान थे, जिसने सीखने की प्रक्रिया का प्रभावी ढंग से वर्णन करना संभव बनाया। इस प्रकार, माइंड मैप्स की पद्धति का उपयोग अनंत काल से होता रहा है, जो मानव विचारों के प्रवाह का सबसे स्वाभाविक और सुविधाजनक प्रतिबिंब है।

 माइंड मैप्स के मुख्य कार्य

माइंड मैप्स के मुख्य कार्य

 माइंड मैप्स कई तरह के कार्य करते हैं। सरल शब्दों में, विशेष रूप से वे यह करने का मौका देते हैं:

  • प्रेरणा हासिल करना और नए विचार उत्पन्न करना;
  • कम से कम समय और आंतरिक संसाधन खर्च करते हुए, जानकारी की संरचना करना और उसका प्रभावी ढंग से विश्लेषण करना;
  • सामग्री को बेहतर ढंग से याद रखना और आत्मसात करना;
  • प्रबंधन को अनुकूलित करना और प्रचार रणनीतियों का विश्लेषण करना;
  • अपने आईडिया और विचारों को पार्टनर, शिक्षकों, टीम, आदि के सामने प्रस्तुत करना;
  • कार्यों का प्रबंधन, उन्हें सौंपना और प्राथमिकता देना;
  • परियोजना का विवरण और प्रोटोटाइप का चित्रण;
  • अपने शौक या हॉबी की योजना बनाना और उसे परिभाषित करना (आखिरकार, माइंड मैप्स का उपयोग रोजमर्रा की जिंदगी में भी किया जा सकता है)।

 माइंड मैप्स के प्रकार

माइंड मैप्स के प्रकार

 एक माइंड मैप की संरचना और रूप कैसा भी हो सकता है, पर निम्नलिखित प्रकार मुख्य रूप से जाने जाते हैं:

  • हायरार्की-फ्लोचार्ट। यह एक क्लासिक माइंड मैप है जिसमें शीट के केंद्र में मुख्य विचार (समस्या) होता है और इसमें से माध्यमिक और तृतीयक समस्याओं की एक पेड़ जैसी शाखाएं निकलती हैं। एक नियम के रूप में, मुख्य विचार से निकलने वाली समस्याओं या विचारों की पहली शाखा — इसकी मुख्य दिशाएँ और श्रेणियाँ होती हैं, और बाद वाली शाखाएँ लक्ष्यों को हासिल करने के लिए निर्धारित टास्क होते हैं। प्रोजेक्ट वर्क के लिए यह माइंड मैप का सबसे लोकप्रिय प्रकार है।
  • टेबल-चार्ट। इस प्रकार का माइंड मैप पारंपरिक स्प्रेडशीट पर आधारित होता है। इस तरह के मैप की मदद से विचारों, परियोजनाओं, उत्पादों आदि के फायदे और नुकसान की तुलना करना सबसे आसान होता है।
  • ब्लॉक संरचना। इसका उपयोग बड़ी संख्या में तय किये जाने वाले टास्कों की कल्पना करने के लिए किया जाता है, उदाहरण के लिए, कोई व्यवसाय योजना बनाते समय। मुख्य विचार या समस्या को शीट में सबसे ऊपर लिखा जाता है, और फिर संक्षिप्त विवरण और उप-बिंदुओं के साथ महत्वपूर्ण बिंदु वहाँ से निकलते हैं। इससे एक तरह की "सीढ़ी" बन जाती है।
  • "फिशबोन" चार्ट। यह सबसे रचनात्मक प्रकार का मैप है जो वास्तव में एक मछली जैसा दिखता है: मुख्य विचार बाईं ओर लिखा जाता है (मछली के सिर की तरह), और द्वितीयक डेटा महत्व के हिसाब से या क्रोनोलॉजिकल क्रम में इससे निकलकर पूंछ की ओर जाता है।
  • ग्राफ। कार्यों के निष्पादन को ट्रैक करने और घटनाओं के क्रोनोलॉजिकल क्रम को पकड़ कर रखने के लिए उपयोग किया जाता है। ग्राफ की सहायता से, मौजूदा स्थिति के आधार पर कार्यों और निर्णयों के संभावित विकल्पों को विकसित करना सबसे आसान होता है।
  • नेटवर्क। सबसे लोकप्रिय प्रकार का माइंड मैप, जो एक अंतर-संबंध चार्ट है। सभी तत्वों को बिना किसी स्पष्ट संरचना के बेतरतीब ढंग से, लेकिन कुछ तत्वों (तीर, रंग, स्टिकर, आदि का उपयोग करके) के साथ संबंध के प्रतिबिंब के अनुसार व्यवस्थित किया जाता है। मुख्य विचार को भी केंद्र में रखा जाता है।

शिक्षा और शिक्षाशास्त्र में माइंड मैप

शिक्षा और शिक्षाशास्त्र में माइंड मैप

माइंड मैप सामान्य लीनियर नोट्स का एक विकल्प है जो शिक्षा के क्षेत्र में उपयोग किया जाता है। चूंकि माइंड मैप का उद्देश्य जटिल जानकारी और उसके भीतर के जटिल संबंधों को विज़ुअल रूप में प्रदर्शित करना है, इसलिए वे इसे चीज़ों को बेहतर तरीके से याद रखने में मदद करते हैं।

विशेष रूप से, स्कूलों के लिए इस दृष्टिकोण का ख़ास महत्व है। उदाहरण के लिए, इतिहास विषय के मेन्टल मैप आपको एक निश्चित ऐतिहासिक घटना को, इसके चारों ओर कारण, परिणाम, कृत्यों और परिणामों के विकास की मुख्य दिशाओं को रखते हुए, दिमाग में बिठाने की अनुमति देते हैं, जो याद रखने के लिए काफी सुविधाजनक है। ठीक इसी तरीके से साहित्य में भी मेन्टल मैप काम करता है — इस मामले में, उनका उपयोग किसी रचनात्मक कार्य या पात्रों की छवियों के बारे में जानकारी को दर्शाने के लिए किया जा सकता है। गणित में माइंड मैप आपको समस्याओं या उदाहरणों को हल करने के लिए विस्तार से विश्लेषण करने की अनुमति देते हैं। किसी क्षेत्र के भूगोल का अध्ययन करने के लिए किसी शहर का माइंड मैप या किसी देश के माइंड मैप का भी उपयोग किया जा सकता है, और शारीरिक संरचना का अध्ययन करने के लिए किसी व्यक्ति के माइंड मैप का उपयोग किया जा सकता है। तो सभी विषयों और पाठों के लिए माइंड मैप बनाने के नियम बिल्कुल समान हैं, जो इस शैक्षिक पद्धति को न केवल प्रभावी बनाता है, बल्कि सार्वभौमिक भी बनाता है।

 साथ ही, शिक्षा और शिक्षाशास्त्र में माइंड मैप्स की सहायता से आप यह भी कर सकते हैं:

  • शैक्षिक और उपयोगी जानकारी एकत्र और व्यवस्थित कर सकते हैं, जो रिपोर्ट, थीसिस और शोध पत्र तैयार करते समय विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। इस तरह के माइंड मैप्स का उपयोग अपने काम में भी महत्वपूर्ण बिंदुओं को उजागर करने के लिए एक दृष्टांत के रूप में किया जा सकता है।
  • किसी भी व्याख्यान को जल्दी से लिखना और याद रखना। नियमित टेक्स्ट की तुलना में माइंड मैप को ज़्यादा आसानी और तेज़ी से लिखा जा सकता है, इसलिए आप उन्हें कक्षा के दौरान ही बना सकते हैं।
  • माइंड मैप्स आपको पढ़ाई के घंटों को तय करने और एक उत्पादक स्टडी-प्लान बनाने में मदद करेंगे। साथ ही, उनकी मदद से आप उन शैक्षिक लक्ष्यों और विषयों की संरचना भी तैयार कर सकते हैं जिन्हें सीखने या जिनमें महारत हासिल करने की आवश्यकता है।
  • विदेशी भाषा सीखने में माइंड मैप्स का सक्रिय रूप से उपयोग किया जाता है, खास तौर पर शब्दावली का विस्तार करने के लिए। केंद्र में एक विषय रखा जाता है (जैसे कि: "कपड़े"), और उससे संबंधित शब्द ("पोशाक", "जूते", "शर्ट", आदि) चारों ओर शाखाओं की तरह पंक्तिबद्ध होकर निकलते हैं।
  • एक टीम के रूप में काम करते समय (उदाहरण के लिए, ट्रेनिंग या ब्रेनस्टॉर्मिंग के दौरान), किसी विशिष्ट समस्या के बारे में प्रतिभागियों के विचारों और राय को रेखांकित करने के लिए माइंड मैप का उपयोग करना सबसे आसान तरीका है। इसकी मदद से आप इन प्रतिभागियों की भूमिका, कार्यों को पूरा करने की समय सीमा आदि प्रदर्शित कर सकते हैं।

 माइंड मैप कैसे बनाएँ 

कुछ आसान चरणों में क्लासिकल मॉडल के अनुसार माइंड मैप बनाना:

  1. विचार मंथन किया गया, जिसके दौरान माइंड मैप के उद्देश्य के आधार पर अंतर्निहित विषय की खोज की जाती है। यह विषय, जो या तो एक विचार, संकल्पना या नाम हो सकता है, या कोई समस्या जिसे हल किया जाना है, उसे माइंड मैप के केंद्र में रखा जाना चाहिए और तदनुसार हाइलाइट किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, इसे एक सर्कल में रखें।
  2. फिर आपको पहले स्तर के खोजशब्दों या कीवर्ड को उजागर करने की आवश्यकता है — महत्वपूर्ण श्रेणियां या अध्याय जो सीधे केंद्रीय विचार से संबंधित हैं। उन्हें इसके चारों ओर चित्रित किया जाता है और एक अलग रंग में हाइलाइट किया जाता है। 1-2 शब्दों वाले कीवर्ड का उपयोग करना सबसे अच्छा होता है (क्योंकि विचार जितने छोटे होते हैं, उन्हें समझना उतना ही आसान होता है)। इस स्तर पर, आप संबद्धता स्थापित करने के लिए श्रेणियों में चित्रों को भी जोड़ सकते हैं।
  3. इसके बाद दूसरे, तीसरे और उससे आगे के स्तर के कीवर्ड ग्रेडेशन के आधार पर लिखे जाते हैं। यह ग्रेडेशन महत्ता की डिग्री या कुछ सामान्य विशेषताओं पर आधारित हो सकता है — अपनी खुद की धारणा और सुविधा के अनुसार शुरूआत करें।

माइंड मैप बनाने के लिए विचार

माइंड मैप बनाने के लिए विचार

 अपने माइंड मैप में विविधता लाने और इसे समझने में आसान बनाने के लिए, आप निम्नलिखित विचारों का उपयोग कर सकते हैं:

  1. चमकीले रंग। मानव मनोविज्ञान के अनुसार, हम न केवल रेखाओं और चार्ट द्वारा, बल्कि रंगों द्वारा भी अलग-अलग की जाने वाली जानकारी को ज़्यादा आसानी से समझते हैं। आप अपने माइंड मैप पर फ़ोकस बढ़ाने के लिए विभिन्न फोंट, मार्कर, क्रेयॉन और प्रतीकों का भी उपयोग कर सकते हैं। सबसे महत्वपूर्ण विचारों के लिए सबसे चमकीले रंगों और सबसे चमकीले (बड़े) प्रतीकों का उपयोग किया जाना चाहिए, क्योंकि मैप देखते समय वे सबसे पहले आपका ध्यान आकर्षित करेंगे।
  2. खुद का नोटेशन सिस्टम। माइंड मैप बनाना शुरू करने से पहले अपना नोटेशन सिस्टम विकसित करना उचित होगा। सबसे महत्वपूर्ण बात, यह नहीं भूलना चाहिए कि प्रतीकों का अर्थ क्या है! अपना खुद का नोटेशन सिस्टम आपको जितना संभव हो सकेगा मैप को भरने की अनुमति देगी और किसी तरह का गैप नहीं छोड़ेगा जो आगे चलकर आपको परेशान कर सकता है।
  3. कई केंद्रीय अवधारणाएं। आप प्रत्येक विचार के लिए एक अलग माइंड मैप बना सकते हैं, या आप एक ही स्थान पर समानांतर में कई मैप बनाकर उन्हें जोड़ सकते हैं। शीट के केंद्र में एक पंक्ति में 2-3 विचार लिखें और उनसे एक "पेड़" बनाएं। आप देखेंगे कि उनकी शाखाएं कुछ जगहों पर ओवरलैप कर रही हैं, वहीँ से नए विचार उत्पन्न होंगे।
  4. अतिरिक्त नोट्स। माइंड मैप संकलित करते समय, आप अतिरिक्त टेक्स्ट का उपयोग कर सकते हैं और प्रत्येक उप-विषय पर एक कमेंट लिख सकते हैं यदि उसे समझाने या उसपर स्पष्टीकरण देने की आवश्यकता है। ज़रूरी बात यह है कि बहुत ज़्यादा टेक्स्ट का उपयोग न करें: माइंड मैप — एक विज़ुअल उपकरण है, इसलिए कम से कम टेक्स्ट होना चाहिए।
  5. डिजाइन के साथ प्रयोग करें। आप उप-विषयों और विचारों को अलग-अलग आकार में रख सकते हैं, विभिन्न प्रकार के माइंड मैप को एक-दूसरे के साथ जोड़ सकते हैं, या यदि आप चाहें तो अन्य उपकरणों से संरचना उधार ले सकते हैं।

 माइंड मैप्स बनाने के उपकरण

माइंड मैप्स बनाने के उपकरण

आप कागज की एक बड़ी शीट (खास तौर पर कैनवास) और रंगीन पेन या पेंसिल का उपयोग करके अपने हाथ से एक माइंड मैप बना सकते हैं। हालांकि, इसके लिए ऑनलाइन सेवाओं का उपयोग करना बहुत आसान और अधिक सुविधाजनक है, खासकर जब उनमें से कुछ सेवाएं विशेष रूप से माइंड मैप्स तैयार करने के लिए ही हैं। माइंड मैप एप्लीकेशन (ऍप्स) में शामिल हैं:

  1. XMind. सबसे लोकप्रिय माइंड मैपिंग सॉफ्टवेयर में से एक जिसका उपयोग लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम पर किया जा सकता है। डेस्कटॉप संस्करण मुफ्त में उपलब्ध है। अन्य उपकरणों के लिए, $79 से $99 तक की लागत के अलग-अलग टैरिफ हैं।
  2. MindMeiste. इस मुफ्त सॉफ्टवेयर में एक अंतर्निहित क्लाउड तकनीक है, जिसकी बदौलत आप पूरी टीम के साथ किसी भी जगह से माइंड मैप पर काम कर सकते हैं। माइंड मैप्स को अन्य उपकरणों पर स्लाइड प्रेजेंटेशन के रूप में भी एक्सपोर्ट किया जा सकता है।
  3. iMindMap. एक सॉफ्टवेयर जो माइंड मैप्स की आधुनिक अवधारणा के संस्थापक टोनी बुज़ान द्वारा खुद विकसित किया गया है। यह सेवा न केवल आपका मैप बनाने के लिए सभी आवश्यक उपकरण प्रदान करती है, बल्कि सीखने के लिए वीडियो ट्यूटोरियल के साथ व्याख्यान भी देती है।
  4. MindManager. यह सेवा अपना खुद का माइंड मैप बनाने के लिए बड़ी संख्या में टेम्पलेट प्रदान करती है, जिसमें मिनिमलिस्टिक से लेकर अनौपचारिक और रचनात्मक, हर प्रकार के टेम्पलेट मिलेंगे। आप एक लिंक का उपयोग करके कई मैप्स को जोड़ भी सकते हैं, इस प्रकार परियोजनाओं के बीच अंतर-संबंध बना सकते हैं।
  5. Coggle. मैप्स पर सामूहिक तौर पर कार्य करने के लिए एक और सेवा, जिसमें विषयों पर टिप्पणी करने और मेल द्वारा मैप में हुए परिवर्तनों के बारे में सूचित करने की सुविधा है। यह एक मुफ़्त सेवा है, लेकिन इसका एक विस्तारित संस्करण है जिसकी कीमत $5 है। उन नए लोगों के लिए यह सबसे उपयुक्त प्लेटफार्म है जो नहीं जानते हैं कि माइंड मैप कैसे बनाया जाता है

माइंड मैप्स के उदाहरण

 माइंड मैप्स — अक्सर रचनात्मकता, रचनात्मक विचार और प्रत्येक व्यक्ति के लिए व्यक्तिगत सुविधा के परिणामस्वरुप बनते हैं। इसलिए, माइंड मैप्स में विभिन्न प्रकार की संरचनाएं, आकार और नोटेशन होते हैं जिन्हें आसानी से Google पर खोजा जा सकता है। आप नीचे दिए गए माइंड मैप के उदाहरणों को टेम्पलेट या सैंपल के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं:

माइंड मैप्स के उदाहरणमाइंड मैप्स के उदाहरण

माइंड मैप्स के उदाहरण

मूल्य विभेदन या अंतर 

रिटारगेटिंग (पुनर्लक्ष्यीकरण)