कोर्स का कैटलॉग

ऑनलाइन ट्रेनिंग

कोर्स के कैटलॉग पर जाएं



नेटवर्किंग

नेटवर्किंग क्या है

अपने व्यावसायिक संपर्कों की एक प्रणाली को नेटवर्किंग कहते हैं। आसान शब्दों में कहें तो, नेटवर्किंग आपको आपके पेशेवर क्षेत्र में आगे बढ़ने, अनूठे प्रोजेक्ट का हिस्सा बनने या कुछ महत्वपूर्ण बिज़नेस शुरू करने का मौका देती है

नेटवर्किंग न केवल व्यक्तिगत स्तर पर की जाती है, बल्कि एक संगठन भी अपने उपयोगी परिचितों का अपना नेटवर्क बना सकता है। कॉर्पोरेट नेटवर्किंग आपको संपूर्ण व्यवसाय के लिए संपर्कों का एक नेटवर्क विकसित करने की अनुमति देती है और उसे व्यक्तिगत नेटवर्किंग के समान सिद्धांतों पर बनाया गया है: व्यापारिक इकाईयां उन ग्राहकों के साथ व्यावसायिक संबंध स्थापित करती हैं जो उनके लक्ष्यों को हासिल करने में मदद करती हैं।

नेटवर्किंग पारस्परिक लाभकारी सहयोग के सिद्धांत पर आधारित होती है। इसलिए, दिलचस्प लोगों से परिचित होने से पहले, यह समझना ज़रूरी है कि नये व्यक्ति से संपर्क बनाने का उद्देश्य क्या है। सबसे प्रभावी हैं बिज़नेस नेटवर्किंग, प्रोफेशनल नेटवर्किंग और एजुकेशन नेटवर्किंग, क्योंकि इन क्षेत्रों में नेटवर्किंग के लाभ स्पष्ट हैं: नेटवर्किंग आपको सबसे अधिक लाभदायक ऑफर प्राप्त करने और सबसे महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को लागू करने का मौका देती है। लेकिन नेटवर्किंग के लाभ कम स्पष्ट भी हो सकते हैं।

नेटवर्किंग की आवश्यकता क्यों है।

हमारी सफलता 70% हमारे आसपास के लोगों पर निर्भर होती है। इसीलिए, व्यक्तिगत नेटवर्किंग रणनीति विकसित करना, व्यक्तिगत सफलता प्राप्त करने का एक महत्वपूर्ण कारक है। हमें न केवल व्यावसायिक संबंधों को विकसित करने, बल्कि व्यक्तिगत संपर्कों पर भी काम करने की आवश्यकता होती है। कोचिंग के संस्थापक थॉमस लियोनार्ड के अनुसार, 50% सफलता हमारे आसपास के माहौल पर निर्भर करती है।

नेटवर्किंग क्या प्रदान करती है? सबसे पहले, यह आपको नये दृष्टिकोण और नये अवसरों को खोजने में मदद करती  है। दूसरा आप नेटवर्किंग का उपयोग अपने करियर के स्तर को बढ़ाने और विशिष्ट कार्य चुनौतियों का समाधान करने, के लिए कर सकते हैं।

नेटवर्किंग आपको सही व्यापारिक संबंध स्थापित करने में मदद करती है, उसे अक्सर "नेटवर्किंग सत्र" कहा जाता है क्योंकि उसमें सिर्फ एक संपर्क नहीं, बल्कि सहयोग स्थापित करने के लिए संपर्कों की पूरी श्रृंखला मिल जाती है। इस तरह के सहयोग से अनेकों भिन्न-भिन्न लाभ प्राप्त हो सकते हैं।

नेटवर्किंग के प्रकार

नेटवर्किंग के नियम के मुताबिक, नेटवर्किंग तभी अधिक प्रभावी होती है जब यह सभी प्रतिभागियों के लिए फायदेमंद सिद्ध हो। और दूसरी ओर, एक ही नेटवर्क के प्रतिभागी पूरी तरह से भिन्न-भिन्न लाभ प्राप्त कर सकते हैं। प्रतिभागियों को मिलने वाले लाभों के आधार पर, नेटवर्किंग के विभिन्न प्रकार होते हैं:

  • सकारात्मक नेटवर्किंग- यह नेटवर्किंग व्यवसायिक साझेदारों के लिए उपयोगी होने की इच्छा पर आधारित है। सकारात्मक नेटवर्किंग आवश्यक है, उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति भविष्य, करियर की उन्नति या अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने के उद्देश्य से अपने परिचितों का नेटवर्क बनाता है। इस मामले में, उसे नये, अधिक प्रभावशाली परिचितों को नेटवर्क में शामिल करने की आवश्यकता होती है। इसकी विपरीत स्थिति भी संभव है: एक उद्यमी अपनी भविष्य की टीम के विशेषज्ञों का "समूह" बनाना चाहता है और ऐसे विशेषज्ञों के विकास के लिए ऊर्जा, समय और पैसा खर्च करने के लिए तैयार है।
  • नकारात्मक नेटवर्किंग- इस तरह की नेटवर्किंग "आप मेरे लिए काम करें - मैं आपके लिए काम करूंगा " सिद्धांत पर आधारित होती है और उसका उद्देश्य दीर्घकालिक संबंध बनाना नहीं होता है। यहाँ साझेदार  लाभ का आदान-प्रदान करते हैं, और उनका सहयोग तब तक चलता है जब तक वे एक-दूसरे को लाभ या प्रदान कर सकते हैं। इस तरह की नेटवर्किंग अपने आस-पास एक मजबूत, पर क्षमताओं में बराबर, लोगों का नेटवर्क बनाने के लिए उपयुक्त होती है।
  • मिश्रित नेटवर्किंग- यह नेटवर्किंग किसी पार्टनर से लाभ प्राप्त करने और उसे भविष्य के काम की संभावना को ध्यान में रखते हुए लाभ प्रदान करने पर आधारित है। नेटवर्किंग का यह दृष्टिकोण, पारस्परिक लाभकारी सहयोग पर निर्मित दीर्घकालिक संबंध बनाने को बढ़ावा देता है।

आपके जो भी नेटवर्किंग लक्ष्य हों, यदि आप इसे सही तरीके से व्यवस्थित करते हैं, तो आप कभी भी प्रभावी नेटवर्किंग का निर्माण कर सकते हैं ।

नेटवर्किंग कैसे संयोजित करें

नेटवर्किंग के मुख्य सिद्धांतों को ताहल रज़ और कीथ फ़राज़ी ने अपनी किताब "नेवर ईट अलोन" में अच्छी तरह से उल्लेखित किया है: आपको अपना नेटवर्क बनाने के लिए हमेशा काम करना चाहिए। किसी दूसरे व्यक्ति के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए हर अवसर का उपयोग करना उचित है। उदाहरण के लिए, बगल की सीट पर बैठे यात्री से पूछें कि वह किस क्षेत्र में काम करता है। क्या पता, बगल वाली सीट पर आज कोई व्यापारिक साझेदार पार्टनर बैठा हो?

मान लीजिये आप नहीं जानते कि नेटवर्किंग की शुरुआत कैसे की जाए, तो ऐसी स्थिति में सबसे पहले अपने आसपास देखें: उदाहरण के लिए, आप किसी यात्रा पर या किसी व्यापारिक कार्यक्रम के दौरान उपयोगी लोगों से मिल सकते हैं। आप ऑनलाइन नेटवर्किंग या मोबाइल नेटवर्किंग भी कर सकते हैं। मोबाइल नेटवर्किंग में, फोन एप्लिकेशन के ज़रिये आवश्यक संपर्क स्थापित किये जाते हैं; कोई सोशल नेटवर्क प्लेटफ़ॉर्म भी इसके लिए उपयुक्त है।

एक फ़ायदेमंद नेटवर्किंग की स्थापना करने के लिए, आप विभिन्न संचार साधनों और विभिन्न नेटवर्किंग टूल्स का उपयोग कर सकते हैं।

नेटवर्किंग टूल्स

नेटवर्क बनाना अब पहले से कहीं अधिक आसान हो गया है: आप नेटवर्किंग पर लिखी गई किताबें पढ़ सकते हैं, नेटवर्किंग इवेंट्स में भाग ले सकते हैं, या ऑनलाइन नेटवर्किंग की शुरुआत कर सकते हैं। नेटवर्किंग टूल्स  अब विविध प्रकार के होते हैं: आप विभिन्न प्लेटफ़ॉर्मों और सेवाओं के माध्यम से संपर्क स्थापित कर सकते हैं।

नेटवर्किंग की तकनीक हर व्यक्ति की अपनी प्राथमिकताओं पर निर्भर करती है। हालांकि, ऐसी सलाह दी जाती है कि संभावित साझेदार के साथ मीटिंग की तैयारी करनी चाहिए। ऐसी मीटिंग की तैयारी के चरण लगभग समान होते हैं, चाहे वह कहीं भी हो: सड़क पर, किसी विशेष सम्मेलन में या नेटवर्किंग इवेंट में। ज़रूरी बात यह है कि:

  1. नेटवर्किंग का उद्देश्य निर्धारित करें: क्या आप किसी विशिष्ट समस्या को हल करना चाहते हैं या अपने बिज़नेस नेटवर्क का विस्तार करना चाहते हैं।
  2. अपनी एक प्रेजेंटेशन तैयार करें। एक संभावित साझेदार को अपने बारे में, अपनी परियोजना के बारे में और आपके साथ सहयोग से वह कैसे लाभ उठा सकता है, यह सब बताने के लिए प्रेजेंटेशन आवश्यक है।
  3. किसी विशिष्ट व्यक्ति के साथ बातचीत की तैयारी करें, उन साझेदारों के लिए प्रश्न तैयार करें जिनमें आप विशेष रूप से रुचि रखते हैं।

किसी विशेष कार्यक्रम में भाग लेते समय, आमंत्रित अतिथियों की सूची का अध्ययन करना महत्वपूर्ण है। एक बड़ा फायदा होगा यदि आप वहां एक उपयोगी बिज़नेस संपर्क स्थापित कर सकें। अक्सर लोग ऐसे अवसर से चूक जाते हैं: उनकी गलत रणनीतिक गणना के चलते, वे नेटवर्क स्थापित करने की परवाह नहीं करते और यह विश्लेषण नहीं करते कि शुरुआत से ही उन्हें कार्यक्रम में शामिल मेहमानों पर ध्यान देना चाहिए। नेटवर्किंग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा यह निर्धारित करना है कि किन लोगों से जुड़ना है।

नेटवर्किंग हर समस्या का हल नहीं है, लेकिन बहुत कुछ हल करती है। आप अभी नेटवर्किंग पर एक कोर्स कर सकते हैं, प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं और अधिक संतुलित और विचारशील तरीके से लोगों के साथ व्यावसायिक संबंध बनाना शुरू कर सकते हैं, जिसका अर्थ यह है कि आप उन संबंधों से बहुत लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

न्यूज़जैकिंग

नवाचार का प्रसार